गुरमुख महापुरषों के दर्शन बड़े भाग्य से प्राप्त होते हैं|

courtesy : book : vichar pravah, bhag-2, page 38