सच्चे गुरसिख की पहचान

click here to read more teachings of Satguru Baba Hardev Singh Ji Maharaj
जो लोग सच्चे ह्रदय से, मन-वचन-कर्म से एक होकर, दातार-प्रभु से प्रीत करते हैं, जिनका उदेश्य यही है की  प्राणी-मात्र से प्रेम करना है,सेवा करनी है और परोपकार करना है; जिनके ह्रदय में 'न को बैरी न ही बेगाना, सगल  संग हमको बनि  आई' पवित्र भावना है, वही सच्चे गुरसिख हुआ करते हैं। उन्हीं की संसार में पूजा हुआ करती है।  भक्त जो भी कर्म करता है, परोपकार की भावना से करता है । वह ह्रदय से इतना उदार होता है की सबके भले की भावना रखता है और वैसा ही शुद्ध आचरण भी करता है। वह इस बात से हरदम डरता है की किसी इंसान का, किसी भी प्राणी का, किसी भी हालत में मन-वचन और कर्म करके उससे बुरा न हो जाए इसलिए वह मन से उपकारी, वचन से मीठा और कर्म से नेक होता है। उसे किसी से न  ईर्ष्या होती है और न  कभी गंदे और भद्दे शब्दों का इस्तेमाल नहीं करता। 
----युगप्रवर्तक बाबा गुरबचन सिंह जी 
साभार : गुरमत सामरिक, 2010, पेज 76 
Comments: 5
  • #5

    SHOBHA VERMA (Tuesday, 24 April 2018 07:22)

    SATGURU KI KIRPA SE HI YE BADLAV ZINDAGI ME HO SAKTA HAI ZAROORAT HAI TO ATOOT VISHWAS KI MATA JI SAB PAR KIRPA BANAYE RAKHE

  • #4

    Das pardeep nailwal (Friday, 20 April 2018 01:55)

    Tu hi tu nirankar
    Mai teri saren ha
    Maniu bakse lo
    Satguru mata sawinder hardave singh ji maharaj ki jai
    Tu hi tu nirankar tu hi nirankar

  • #3

    Roshni (Saturday, 07 April 2018 05:26)

    Hanji aap ho sache gurusikh to jo aap guru ki aawaz social media dwara bhi sabke paas pahuchana rahe ho aise hi aur msg pahuch are jaiye or data ki kripa aap par Bani rahe

  • #2

    Neha Amar koli (Monday, 05 June 2017 07:36)

    Nice Message of babaji

  • #1

    raman kumar carpi, BO. (Sunday, 23 April 2017 05:50)

    very good sant ji ,mujhe bahut ashha laga ,aap jaise santo ki hi jaroorat hai .dataar aapko shakti samratha de,ta ki aap guru ki awaaj ko jan-jan tak pahunchaa saken,or meri tarf se bhi je shubh kamna hai ke dataar aap ko bhakti ka daan de. aap ko namskar dhan nirankar ji.

Owner & Admin : Gurdeep Singh 'Sehaj'

E-mail : gs.sehaj@gmail.com

Contact number : +91-9910027382