यह सहनशीलता नहीं!

कोई इन्सान अगर जलते हुए कोयलों पर चलता है तो इसका भाव यह नहीं की वह बहुत बलवान हो गया है| एक विचारवान इस बात को ऐसे कहता है की उन अंगारों की तपश उसे आगे चलाती है, वह तपश इतनी प्रबल होती है की उसे आगे चलने के लिए मजबूर कर देती है| वह विचारक लिखता है की अपनी विवशता को हम साहस का नाम ना दे दें| भाव यह हमारी विवशता होती है की हम उन अंगारों की तपश सहन नहीं कर पाते, इसलिए आगे बढ़ते जाते हैं| अगर कोई इसे अपनी सहनशीलता अथवा ताकत की पहचान बता रहा है तो यह उसकी भूल है|

 

----निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी महाराज

साभार : बुक सहनशीलता, पेज 47

Koi insaan agar jalte hue koylon par chalta hai to iska bhaav yeh nahin ki vah bahut balvaan ho gaya hai. ek vichaarvaan is baat ko aise kehta hai ki un angaron ki tapash use aage chalaati hai, vah tapash itni prabal hoti hai ki use aage chalne ke lie majboor kar deti hai. vah vicharak likhta hai ki apni vivashta ko ham saahas ka naam na de den. Bhaav yeh hamari vivashta hoti hai ki ham un angaron ki tapash sahan nahin kar paate, isliye aage badhte jaate hain. Agar koi ise apni sahansheelta athva taakat ki pehchaan bata raha hai to yeh uski bhool hai.

 

----Nirankari Baba Hardev Singh Ji Maharaj

Courtesy : Book Sahansheelta, Page 47


Comments: 0