सहनशील न होने का दुष्परिणाम

पाँच-सात वर्ष पहले की बात है की एक बहन को किसी की बात सहन नहीं हुई| गुस्से में आकर वह कहने लगी की निरंकार करे तेरे तन में कीड़े पड़  जाएँ|  साध संगत! दास ने संव्य देखा की शायद सात-आठ दिन भी नहीं बीते, उस बहन को, जिसने ऐसा कहा था, खुद कीड़े पड़ गए, उसे बहुत कष्ट सहन करने पड़े|

 

पुरातन इतिहास में भी हम देखें की किसी ने किसी को रीछ कह दिया था तो वह संव्य रीछ बन गया था| ऐसी (गलत) भावना, ऐसा नजरिया उसी का होता है, जिसने निरंकार-दातार को सही मायनों में जीवन में नहीं ढाला होता| निरंकार-दातार के रंग में रंगा नहीं होता| जो सही मायनों में दातार के रंग में रंगा होता है, वह अपने को मूर्ख मानता है, अदना मानता है और दूसरों को अकल वाला तथा सयाना मानता है| वह दूसरों की कद्र करता है तो उसकी भी कद्र हो जाती है, उसे भी महानता प्राप्त हो जाती है|

 

-निरंकारी बाबा हरदेव सिंह 

साभार : बुक : सहनशीलता, पेज 115

Paanch-Saat varsh pehle ki baat hai ki ek Behan ko kisi ki baat sahan nahin hui. Gusse mein akar vah kehne lagi ki nirankar kare tere tan mein keede pad jayen. Saadh Sangat! daas ne sanvya dekha ki shayad saat-aath din bhi nahin beete, us bahan ke, jisne aisa kaha tha, khud keede pad gaye, use bahut kasht sahan karne pade.

 

Puratan itihaas mein bhi hum dekhen ki kisi ne kisi ko Reechh keh diya tha to vah sanvy reechh ban gaya tha. Aisi (Galat) bhaavna, aisa nazariya usi ka hota hai, jisne nirankar-dataar ko sahi maynon mein jeevan mein nahin dhaala hota. Nirankar-dataar ke rang mein ranga nahin hota. Jo sahi maynon mein dataar ke rang mein ranga hota hai, vah apne ko moorkh maanta hai, adna manta hai aur doosron ko akal wala tatha syana maanta hai. Vah doosron ki kadr karta hai to uski bhi kadr ho jaati hai, use bhi mahanta prapt ho jaati hai.

 

--Nirankari Baba Hardev  Singh Ji

courtesy : Book Sahansheelta, Page 115

 


Comments: 0