इन्सान का असल रूप 

आज संसार की जो हालत है वह इन्सानों के लिए वरदान नहीं मानी जा सकती क्योंकि आज इन्सान इन्सानियत खो चुका है| जिस्म भले ही इन्सानों का है लेकिन वह इन्सानी चाल को भूल चुका है| आज संत इसे यही सन्देश दे रहे हैं की हे इन्सान! अगर तुझे इन्सानों वाला जामा (शरीर) मिला है तो इन्सान के असल स्वरुप को सामने ला| इन्सान का असल रूप, जो दया वाला, करुणा वाला, स्नेह और सहनशीलता वाला है, इस रूप को धारण करके हम जीवन जिएँ| अगर इन्सानों वाले गुण न हुए तो इन्सानी जन्म प्राप्त करके भी हम कुछ हासिल नहीं कर सकते|

 

----निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी महाराज

साभार : बुक सहनशीलता, पेज 17

aaj sansaar ki jo haalat hai vah insaanon ke lie vardaan nahin maani ja sakti kyonki aaj insaan insaaniyat kho chuka hai. Jism bhale hi insaanon ka hai lekin vah insaani chaal ko bhool chuka hai. aaj sant ise yahi sandesh de rahe hain ki he insaan! agar tujhe insaanon wala jama (shareer) mila hai to insaan ke asal swaroop ko saamne la. Insaan ka asal roop, jo daya wala, karuna wala, sneh aur sahansheelta wala hai, is roop ko dhaaran karke hum jeevan jiyen. agar insaanon wale gun n hue to insaani janm prapt karke bhi hm kuchh haasil nahin kar sakte.

 

----Nirankari Baba Hardev Singh Ji Maharaj

Courtesy : Book Sahansheelta, Page 17


Comments: 0