Saints, please like us



ध्यान से ज्ञान की संभाल 

 

आत्मज्ञान की प्राप्ति तो गुरु की कृपा से सहज में हो सकती है, लेकिन इसकी संभाल बहुत कठिन है| जैसे हम अपने घरों में भी पौधे लगाते हैं| हम कहीं से कोई फल या पौधा, कोई फूलों का पौधा ले आते हैं और अपने घर के आँगन में लगा देते हैं, लेकिन केवल उसको घर के आँगन में लगा देने से ही हमें लाभ नहीं मिल जाते| हम उसकी संभाल करते हैं| उसको पानी भी देते हैं, खाद भी डालते हैं, ताकि वे पौधे बड़े हों, फूल, फल और अच्छी छाया दें| संभाल करते हैं तो सारे लाभ मिल जाते हैं|

 

 इसी तरह से यह भी ज्ञान का बीज मन में डाला गया, इसको भी प्रफुल्लित करने के लिए सेवा, सिमरन, सत्संग की ज़रुरत होती है| जिस तरह से दीपक की एक लौ जलाते हैं| हवा में हम उस दीपक को दोनों हथेलियों में ढक लेते हैं, ताकि चारों तरफ से जो हवा चल रही है, वो उस लौ को बुझा न दे| इसी तरह इस ज्ञान के दीपक को जब माया की हवा बुझाने की कोशिश करती है, तो इस ज्ञान की संभाल करने के लिए सिमरन करना ऐसे है, जैसे अपने हाथों से ढँक कर उसे बुझाने से बचा लिया हो|

 

हमें धन मिलता है तो धन की संभाल भी आवश्यक होती है| धन के जरिये हमारे कारज रास हो जाते हैं| देखने वाला कहता है की उसके पास तो इतनी प्रॉपर्टी है, इतनी उसके पास जायदाद है, धन है और इस धन के कारण उसके सारे परिवार की संभाल हो गई है| इसमें भी कोई शक नहीं, की वह धन भी सारे परिवार की संभाल कर रहा है| लेकिन उस धन को पहले परिवार वालों ने ही संभाला हुआ था, तभी तो वह उसकी संभाल कर रहा है| उसको फेंका नहीं और हाथ से जाने नहीं दिया, तो उनकी संभाल हो रही है| यदि कोई नदी में डूब रहा इन्सान नदी में बह रहे लकड़ी के शहतीर को थाम लेता है तो देखने वाला कहता है, की देखो जी, इस शहतीर ने इसे संभाल लिया है, वर्ना तो इसको डूब जाना था| लेकिन शहतीर ने तो उसे तभी संभाला है, जब वह खुद शहतीर को थामे हुए है| पहले उसने संभाल की है, तो उसकी भी संभाल हो गई है| इसी तरह यह निराकार परमात्मा रुपी दात, जो विरलों को प्राप्त होती है, जिसका कोई मोल नहीं, जो जन्मों-जन्मों की भटकन के बाद प्राप्त होती है, ऐसा नाम रुपी हीरा जब इस झोली में पड़ जाता है, तो जो इसकी संभाल कर लेता है, वो वास्तव में आनंदित रहता है, हमेशा सुखी रहता है| उसके नजदीक कोई तृष्णा नहीं आती| अभिमान, दुःख या कोई बुरी भावना, उसके मन में प्रवेश नहीं करती|

 

इसकी संभाल का जरिया भी बताया है, वह जरिया यही है, जो आप संत नित्य प्रति करते हैं| साधसंगत करते हैं, सेवा करते हैं और सिमरन करते हैं| लेकिन ये तीनों कार्य निष्काम भावना से जब करते हैं, तो इस हीरे की संभाल हो जाती है| यह कभी हाथों से नहीं जाता|

 

-----निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी महाराज

साभार  : बुक : विचार प्रवाह भाग-2, पेज 35-36