सहनशील विजयी!

अत्याचार जब भी हारा है, संतो-महापुरषों की सहनशक्ति से हारा है| अत्याचार को जब भी ख़त्म किया है, संतो की सहनशक्ति ने किया है| सभी जानते हैं की महात्मा ईसा मसीह सूली पर चढ़कर दुनिया के मनों पर छा गए| दूसरी और उन पर अत्याचार करने वालों का आज कोई नामलेवा दिखाई नहीं पड़ता| हमारे अपने देश में आदरणीय गुरुओं ने क्या कुछ सहन नहीं किया लेकिन अत्याचारों को सहन करने वाले आज भी अमर हैं और अत्याचार करने वाली सल्तनतें कब की धूल में मिल गई|

 

--निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी

साभार : बुक : सहनशीलता, पेज 103

Atyachar jab bhi haara hai, santo-mahapurshon ki sahanshakti se haara hai. Atyachar ko jab bhi khatm kiya hai, santo ki sahanshakti ne kiya hai. Sabhi jaante hai ki mahatma Eesa Maseeh sooli par charhkar duniya ke mano par chha gae. Doosri aur un par atyachaar karne walon ka aaj koi naamleva dikhaee nahin padta. Hamare apne desh mein aadarniya Guruon ne kya kuchh sahan nahin kiya lekin atyacharon ko sahan karne wale aaj bhi amar hain aur atyachar karne wali saltnaten kab ki dhool mein mil gayi.

 

--Nirankari Baba Hardev Singh Ji

Courtesy : Book Sahansheelta, page 103

 


Comments: 0