बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ 

एक स्त्री एक दिन एक स्त्रीरोग विशेषज्ञ के पास के गई
और बोली, " डाक्टर मैँ एक गंभीर समस्या मेँ हुँ और मै
आपकी मदद चाहती हुँ । मैं गर्भवती हूँ, आप
किसी को बताइयेगा नही मैने एक जान - पहचान के
सोनोग्राफी लैब से यह जान लिया है कि मेरे गर्भ में एक
बच्ची है। मै पहले से एक बेटी की माँ हूँ और मैं किसी भी दशा मे
दो बेटियाँ नहीं चाहती ।
" डाक्टर ने कहा ,"ठीक है, तो मै आपकी क्या सहायता कर
सकता हुँ ?" तो वो स्त्री बोली," मैँ यह चाहती हू
कि इस गर्भ को गिराने मेँ मेरी मदद करें ।" डाक्टर अनुभवी और
समझदार था। थोडा सोचा और फिर बोला,"मुझे लगता है कि मेरे
पास एक और सरल रास्ता है
जो आपकी मुश्किल को हल कर देगा।" वो स्त्री बहुत खुश हुई..
डाक्टर आगे बोला, " हम एक काम करते है आप
दो बेटियां नही चाहती ना ?? ? तो पहली बेटी को मार देते है जिससे आप इस अजन्मी बच्ची को जन्म दे सके और आपकी समस्या का हल
भी हो जाएगा. वैसे भी हमको एक बच्ची को मारना है तो पहले वाली को ही मार देते है ना.?"
तो वो स्त्री तुरंत बोली"ना ना डाक्टर.".!!! हत्या करना गुनाह है पाप है और वैसे भी मैं अपनी बेटी को बहुत चाहती हूँ । उसको खरोंच भी आती है तो दर्द का अहसास मुझे होता है डाक्टर तुरंत बोला,"पहले कि हत्या करो या अभी की जो जन्मा नही उसकी हत्या करो दोनो ही पाप हैं।" यह बात उस स्त्री को समझ आ गई । वह स्वयं की सोच पर लज्जित हुई और पश्चाताप करते हुए घर चली गई ।


क्या आपको समझ मेँ आयी? अगर आई हो तो Share करके दुसरे लोगो को भी समझाने मे मदद
कीजिये

Please do share your views/remarks

Source of story is internet, Courtesy to the writer for such a motivating note.