प्रगतिशील साहित्य मासिक पत्रिका


Visitors : Website Hit Counter
Download
november 2013 issue.pdf
Adobe Acrobat Document 51.2 MB
 प्रगतिशील साहित्य मासिक पत्रिका नए रचनाकारो को अवसर देने के लिए शुरू की  गयी है |हर अंक का अपना विषय होता है जैसे कि-सितम्बर का विषय था-देशभक्ति और राजनीति,उसके बाद -नैतिकता के राम और भ्रष्टाचार का रावण ,आस्था और सत्य ,मानव मूल्य और मानव अधिकार तथा जनवरी१४  का भाग्य और कर्म | अभी तक पांच अंक प्रकाशित हो चुके हैं |फरवरी १४ अंक प्रेम पर केंद्रित है |
 
       हर अंक में एक व्यंग्य,२-३ कहानियां,दो-चार कविताएं,कैरियर,स्वास्थ्य,फ़िल्म-टी.वी.आदि पर सामग्री होती है |इन दिनों -स्तम्भ के अंतर्गत एक पृष्ठ में संक्षिप्त समाचार दिए जाते हैं |अध्यात्म स्तम्भ के  दो पृष्ठों में निरंकारी बाबा जी के विचार दिए जाते हैं |
 
       पांच महीनो की  इस संक्षिप्त अवधि में भारत  के बारह से ज्यादा राज्यो में पत्रिका के नियमित पाठक उपलब्ध हो चुके हैं |
 
     हम इस अभियान को और आगे ले जाना चाहते हैं ताकि नयी प्रतिभाओं को अवसर मिल सके |आप इस अभियान में हमारे सहयोगी बने ताकि प्रगतिशील साहित्य युवाओं का विशाल रचनात्मक आंदोलन बन सके |