Rev. Vinay Joshi Ji

aasha ki kiran.pdf
Adobe Acrobat Document [116.6 KB]
Download

Mobile No. : 9868898044

 


Please do Share Your Views/Remarks about this POEM.
God Bless All is loading comments...

Greatly touched. Too good, thanks a lot for these beautiful words, actually it feels like u have given words to our feelings.

Dr. Swati

 

Thanks... My marriage is fixed and m so happy to got this poem.. If you have more Poems like this pls mail it to me

                                                                                                                                                                   Vaishali Bhatnagar

such a nice poem thanks for sharing this poem with us

Sarita Sarki

Bahut achhi kavita hai.

Farooq Hasan, Gonda, UP

 

Nice Poem, thanks to vinay ji for sharing such a beautiful poem.

Ravi Bhambha, Abu Dhabi

 

Bahut accha laga ki aapki website par beti par bhi kavita hai.

Raghav, Rajinder Nagar, Delhi

 

Google Groups enter your E-Mail Id to get spiritual
Email:
Visit this group ]]>
  1. उत्तराखंड के सबक 
  2. परमात्मा की शक्ति से या परमात्मा के द्वारा 
  3. भक्ति और चापलूसी 
  4. परिवर्तन और हम 
  5. जीवन शुभ हो, मृत्यु भी 
  6. रंग 
  7. सूफियत का रहस्य 
  8. समाज को बदल डालो 
  9. संस्कारों से सुरक्षा 
  10. शुभकामनाएं कर्मकांड न बन जाएँ 
  11. दर्पण झूठ नहीं बोलता 
  12. कन्या भ्रूण हत्या 
  13. हम दीपावली क्यूँ मनाते हैं 
  14. पुतले जलाने से क्या होता है 
  15. कर्म और पूजा 
  16. चलता है !
  17. एकत्व (Oneness ) आखिर किस चिड़िया का नाम  है? 
  18. कितना बदल गया इन्सान ?
  19. आस्था-पैदा-कर
  20. विश्वासघात-रोकने-की-पहल करें
  21. तो दुःख नाम की चीज नहीं बचेगी
  22. पहले लोक तो सुखी हो
  23. न्याय की रुसवाई - खटमल के समर्थन में मच्छर की गवाही
  24. कहीं दाना कच्चा तो नहीं?
  25. ताकि हमारा मन खिला रहे
  26. जड़ों से जुड़े रहना है हमेशां
  27. आइये विचार करें
  28. यथार्थवाद और पदार्थवाद - एक सन्तुलन
  29. ਹਾਰੀਏ ਨਾ ਹਿੰਮਤ
  30. हिम्मत न हारिए
  31. ਜੀਵਨ ਦੀ ਸਹੀ ਰਾਹ - ਧਰਮ ਦੀ ਭੂਮਿਕਾ
  32. किस और जाएँ
  33. जीने की सही राह - धर्म की भूमिका
  34. SHUBHKAAMNA
  35. VYAKTI AUR VISHISHT VYAKTI
  36. संगठन और सिद्धान्त
  37. मानवता की कठिनाई
  38. सत्य और सत्ता
  39. उसे धर्म कैसे कहें
  40. भोंकना, बोलना व अमृतवर्षा करना
Total Visitsstats counter
Newsletter