जिंदगी छोटी है, तो हर एक पल में खुश हूँ!

हिन्दी-उर्दू कविता 

जिंदगी छोटी है,

तो हर एक पल में खुश हूँ|

स्कूल में खुश हूँ,

घर में खुश हूँ|

आज पनीर नहीं है,

तो दाल में ही खुश हूँ,

आज गाड़ी में जाने का पैसा नहीं,

दो कदम चल के ही खुश हूँ|

आज दोस्तों का साथ नहीं,

तन्हाई में ही खुश हूँ|

अज कोई नाराज़ है,

उसके इस अंदाज़ में भी खुश हूँ|

जिसको  देख नहीं सकता,

उसकी आवाज़ में ही खुश हूँ|

जिसको पा नहीं सकता,

उसकी याद में ही खुश हूँ|

बीता हुआ कल जा चुका है,

उसकी मीठी यादों से ही खुश हूँ|

आने वाले पल का पता नहीं,

उसके इंतज़ार में ही खुश हूँ|

अगर दिल को छुआ तो बताना यारो,

नहीं तो मैं ऐसे ही खुश हूँ|


Zindgi hai Chhoti, 
Toh har ek Pal mein Khush hoon.
School mein Khush hoon,
Ghar mein Khush hoon.
Aaj Paneer nahi hai,
Toh Daal mein hi Khush hoon.
Aaj Gaadi mein jaane ka paisa nahi, 
Do Kadam Chal ke hi Khush hoon.
Aaj Doston ka Sath nahi,
Tanhai me hi Khush hoon.
Aaj koi Naraaz hai,
Uske is Andaz mein bhi Khush hoon.
Jisko Dekh nahi sakta,
Uski Awaz me hi Khush hoon.
Jisko Pa nahi sakta,
Uski Yad me hi Khush hoon.
Beeta hua kal jaa chuka hai,
Uski Meethi Yaadon se hi Khush hoon.
Aane wale pal ka pata nhi,
Uske intezaar mein hi khush hoon.
Agar dil ko chhua toh bataana yaaron,
Nahi to main aise hi khush hoon


Courtesy to original poet (shayar) for this beautiful poem, if you do not want to share this poem on this website, please do contact us with the proof that you are original writer/poet.