visitors

Web Counter
Rev. Rajesh Sakolia Ji
Rev. Rajesh Sakolia Ji

Name : Rev. Rajesh Sakolia Ji

 

Address : V. Badyal Qazian, Teh. R.S. Pura, Distt. Jammu (J&K)

 

E-mail : rajeshsakolia@maanavta.com


"मैं" को छोड़ के "तू" होने को प्रेमा-भक्ति कहते हैं

तन-मन-धन जब अर्पण करके, हम इस जग में रहते हैं,
"मैं" को छोड़ के "तू" होने को प्रेमा-भक्ति कहते हैं I

न कोई वैरी न ही बेगाना, सब अपने ही लगते हैं,
प्रेम की धुन से, अंधकार में, ज्ञान के दीपक जगते हैं
प्रेम के पंख लगा के जब हम, प्रभु भक्ति में बहते हैं,
"मैं" को छोड़ के "तू" होने को प्रेमा-भक्ति कहते हैं I

मीरा पीके प्रेम प्याला, प्रभु भक्ति में खोई थी,
पत्थर से हुए प्रकट प्रभु, धन्ने (धन्ना भगत) की धरती बोई थी,
ऐसी अवस्था में मानव के सुख और दुःख सब डैहते हैं,
"मैं" को छोड़ के "तू" होने को प्रेमा-भक्ति कहते हैं I

यह है प्रेम की ऐसी अवस्था, जिसका कोई अंत नहीं,
प्रेम बिना भक्ति हो तो फिर, सन्त भी होता सन्त नहीं,
प्रेम में जीवन जीते हुए जब, तूही तूही कहते हैं,
"मैं" को छोड़ के "तू" होने को प्रेमा-भक्ति कहते हैं I



Main” ko Shod ke “Tu” hone ko Prema-Bhakti kehte hain…

 

Tann-Mann-Dhann jab arpan karke, hum is jag mein rehte hain,

“Main” ko chhod ke “Tu” hone ko Prema-Bhakti kehte hain…

 

Na koi vairi na hi begana, sab apne hi lagte hain,

Prem ki dhun se, andhkar mein, Gyan ke Deepak jagtey hain

Prem ke pankh laga ke jab hum, prabhu bhakti mein behte hain..

“Main” ko chhod ke “Tu” hone ko Prema-Bhakti kehte hain…

 

Meera peeke prem pyala, prabhu bhakti mein khoi thi,

Pathar se hua prakt prabhu, Dhanne(Dhanna Bhagat) ki dharti boi thee,

Aaisi avstha mein manav ke sukh aur dukh sab dahtey hain….

“Main” ko chhod ke “Tu” hone ko Prema-Bhakti kehte hain…

 

Yeh hai prem ki aaisi avastha, jiska koi ant nahin,

Prem bina bhakti ho to phir, sant bhi hota sant nahin,

Prem mein jeevan jeetey hue jab, tuhi tuhi kehte hain…

“Main” ko chhod ke “Tu” hone ko Prema-Bhakti kehte hain…

God Bless All is loading comments...