चरित्र (हिन्दी कविता)

कवि : श्री भूपिंदर सेठी 'अमन'  (दिल्ली)

दोहरे चरित्र का बन रहा इन्सान है
ऊपर साधू अन्दर से बे-ईमान हैं |

बदल बदल कर अपने मुखोटों से,
अपने चरित्र का कर रहा निर्माण है |

चरित्र वो आईना है, हर आदमी का,
जो हमको कहता है, कौन कितना महान है |

दुष्चरित्र के कारण इस लोक में क्या,
परलोक में भी, नहीं होता कल्याण है |

नज़रिया हर आदमी का है अलग अलग,
जैसी दृष्टि वैसी सृष्टि, जैसा जिसका ध्यान है |

'अमन' जग में होगा चरित्र उसका ऊंचा,
गुरु वचनों पर होता जो कुर्बान है | 

 

 

 

CHARITRA - Hindi Poem

Kavi : Rev. Bhupinder Sethi 'Aman'

Dohre chartira ka ban raha insan hai,

oopar sadhu andar se be-imaan hai.

 

Badal Badal ke apne mukhoton se,

apne charitra ka kar raha nirman hai

 

charitra vo aaina hai, har aadmi ka,

jo hamko kehta hai, kaun kitna mahan hai

 

dushcharitra ke kaaran is lok mein kya,

parlok mein bhi, nahin hota kalyan hai.

 

nazariya har aadmi ka hai alag-alag,

jaisi drishti, vaisi srishti, jaisa jiska dhyan hai.

 

'Aman' jag mein hoga charitra uska ooncha,

guru vachnon par hota jo qurban hai.