सच की राह दिखाने वाला सतगुरु है (भक्ति गीत)
गीतकार : योगेश कुमार, इंदौर, एम्.पी.

सच की राह दिखाने वाला सतगुरु है
सच के संग मिलाने वाला सतगुरु है

सच की बाते दुनिया करती सारी है
पता सत्य का नहीं बहुत लाचारी है
देता सच की दात निराला सतगुरु है
सच के संग.............

ज्ञान उजाला जीवन में सुख लाता है
अँधियारा अज्ञान पल में जाता है
ज्ञान की ज्योति जलाने वाला सतगुरु है
सच के संग.............

पाँच तत्त्व का पुतला होता सत्य नहीं
रहता इसकी ओट में होता सत्य वही
सच का भेद बताने वाले सतगुरु है
सच के संग.............

हर युग 
में जीवन का मकसद प्रभु प्रीत रही
सत्य प्रेम 'योगेश' गुरु की रीत रही
प्रीत की  रीत सिखलाने वाला सतगुरु है
सच के संग.............

तर्ज़ : जन-जन की अरदास पूरी कर दाता

कृपया इस लेख के बारे में अपने विचार नीचे दिए गए फार्म के माध्यम से सांझा करें.

dhan nirankar ji , is geet se hame yeh gyan milta ha ki yeh manav sharir bhi nashwar hai , yeh satya nahi hai , satya to kewal parmatma ka gyan  hai , satguru hi sansar mein prit sikhata hai, satguru hi satya ka rasta dikhata hai, jivan ke andhiyare ko dur karke jiven mein ujala lata.

Heera Ji

 

Note: Please fill out the fields marked with an asterisk.