गीतकार : कृष्णा साहनी जी

 

सच्चा सहारा (सत्य पर गीत)
गीतकार : कृष्णा साहनी जी

मन  मेरे मान जा, तुझे सच्चा  सहारा मिल गया है
लम्बे सफ़र बाद मंजिल का इशारा मिल गया है..

इनयात है इनकी, जो मिली है तुझे ये सौगात,
वर्ना  प्रभु  मिलते, कहाँ थी तेरी ये औकात..-२
माया के इस विशाल समुंदर में किनारा मिल गया है
मन मेरे मान जा तुझे सच्चा  सहारा मिल गया है...

झूठ, झूठ और सिर्फ झूठ बस यही है इस जग की रीति
झूठ को पाना, झूठ को खोना झूठी है ये जग की प्रीती-२
देख ये कृपा सतगुरु की तुझे सच का द्वारा मिल गया है......
 मन मेरे मन जा तुझे सच्च सहारा मिल गया है........

कृपया इस गीत के बारे में अपने विचार नीचे दिए गए फार्म के माध्यम से सांझा करें.


आपके विचार :

song is very nice..wording is too good.

Sanjay Kaushal

Babaji bharpur aashribad de bahut hi sunder geet hai. satguru se yehi prathana hain ki babaji jaisa geet hai waisa hamara maan banjaye..
DHAN NIRANKAR JI...!
                                                                                Thanks & Regards,
                                                                               Kaviraj, Dubai UAE

wah ji kya geet ka bhav hain ji mann ko apne bare me sochane per mazbur kar diya ke me kis aur ja raha hu. Datar ke charno me yahi dua he ki he sacchebadshah hamare maan ko aap apne bas me hi rakhana.aur apke kahe mutabik hi hamara maan karm aur jiwan chale. dhan nirankar ji

Sidharth Gangawane

Note: Please fill out the fields marked with an asterisk.